15 साल की उम्र के बाद हाइट कैसे बढ़ाएं? जानें लंबाई

हाय फ्रेन्डस आज मैं आपको हाइट इन्क्रीज़ कैसे करना और कब करना इसकी पूरी जानकारी देने की कोशिश करूँगी। कई लोग अपनी हैट या लंबाई के बारे में बहुत चिंतित रहते हैं क्योंकि हैट अच्छी रहे तो पर्सनालिटी अच्छी दिखती है। हमारी हैट कितनी होगी? हाइट कैसे बढ़ाए आइए जानें ये 60-80 परसेंट हमारी जीन्स डिसैड करती है। यानी आपके मम्मी डॅडी की हैट कम है, तो मोस्ट प्रॉबब्ली आपकी हैट भी उनके बराबर या उनसे कुछ ही ज्यादा बड़ी होगी। 

How to increase height after 15 years of age?  Learn how to increase height

15 साल की उम्र के बाद हाइट कैसे बढ़ाएं? जानें लंबाई बढ़ाने के

लेकिन 20-40 प्रतिशत लोग अच्छी डाइट और विटामिन सप्लीमेंट्स लेने से डेली एक्सर्साइज़ करने से और कुछ दवाइयां लेने से अपनी हैट बढ़ा सकते हैं। जो लोग हैट गेन करना चाहते हैं। उन्हें एक जरूरी बात जानना चाहिए। एस ए रूल लड़कियों की हैट 18 साल के बाद और लड़कों की हैट 21 साल के बाद नैचुरली नहीं बढ़ाई जा सकती है।

 

ये इसलिए क्योंकि हमारी हैट हमारी बोन्स या हड्डियों के लंबे होने से बनती है। एयठीन से 20 साल की उम्र तक। हमारी हड्डियों और जोड़ों के बीच में एक कार्टलेज या नरम हड्डी रहती है जो हमारी हड्डियों को बढ़ने देती है और लंबा होने देती है।

लेकिन 18 से 20 साल की उम्र में ये नरम हड्डी या कॉर्पोरेट खत्म हो जाता है और हमारी हड्डियों हमारे जोड़ों के साथ जुड़ जाती है जब हड्डियाँ और जोड़ एक दूसरे से जुड़ जाते हैं।

तब हमारी हैट बढ़नी बंद हो जाती है। ये लड़कियों के लिए अक्सर 18 साल की उम्र में और लड़कों के लिए 20 से 21 साल की उम्र तक हो जाता है।

कई लोग वीडियो बनाते हैं कि कुछ दवाइयां या नुस्खा खा लेने से या कोई इन्जेक्शन लगा लेने से रातों रात आपकी हैट किसी भी उम्र में बढ़ जाएगी तो ये सिर्फ झूठ और लोगों को गुमराह करने वाली बात है।

अब यदि किसी को अपनी हैट बढ़ानी हो तो ये कैसे किया जाए? जो लोग अपनी हैट बढ़ाना चाहते हैं तो उन्हें हैट बढ़ाने का निर्णय 12 से 14 साल की उम्र तक ले लेना चाहिए।

हमारी हैट हड्डियों के लंबे होने से बढ़ती है और हमारी हड्डियों, प्रोटीन और मिनेरल्स यानी खनीज पदार्थ जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम, ज़िंक, सेलिनियम, मैगनीज़, कॉपर आदि से बनती हैं।

इसलिए हाइट बढ़ाने में गुड डाइट या पौष्टिक आहार का महत्त्व सबसे ज्यादा है। हैट बढ़ाने के लिए सबसे जरूरी है प्रोटीन। प्रोटीन ना सिर्फ हमारी ओवरआल ग्रोथ के लिए जरूरी है।

वे हमारी बॉडी की मरम्मत या रिपेर भी करते हैं और हमारी इम्युनिटी को बढ़ाते हैं। वेस्ट और मिडिल ईस्टर्न देशों में लोगों की डाइट ज्यादा करके नॉन वेजिटेरियन फुड यानी मीट, फिश, चिकन, एग्स, मिल्क आदि होती है।

जिसमें पूरा प्रोटीन होता है इसलिए इन देशों के लोगों की हैट ज्यादा होती है। लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि वेजिटेरियन डाइट में अच्छे प्रोटीन नहीं है और वेजिटेरियन फुड खाने से हमारी हैट नहीं बढ़ सकती है।

 

उदाहरण के लिए हरियाणा के ज्यादा लोग वेजिटेरियन हैं, लेकिन वे लोग खूब घी, दूध, दही, मखन, पनीर। गेहूं का दलिया, दाल, राजमा, चने, मूंगफली और हारा साग खाते हैं। इन सब चीजों में अच्छा और आसानी से पचने वाला प्रोटीन होता है।

यही कारण है कि वहाँ के लोग खूब लम्बे, चौड़े और तंदरुस्त रहते हैं। रेसलिंग, बॉक्सिंग जैसे स्पोर्ट्स में भी आगे रहते हैं। यदि आप वेजिटेरियन है तो ऊपर बताएं। प्रोटीन रिच फुड खाकर अपनी हाईट बड़ा सकते हैं।

जिन लोगों को दूध नहीं पछता वे लोग दही और छाछ ले सकते हैं। प्रोटीन के अलावा हमें जो मिनेरल्स हड्डियाँ बनाने और उनकी लंबाई बढ़ाने के लिए चाहिए जैसे कैल्शियम, मैग्नीज़ियम, ज़िंक, कॉपर आदि। वो भी ऊपर बताई हुई खाने की चीजों में खूब अच्छी मात्रा में होता है।

 

हड्डियों के लिए एक और जरूरी विटामिन है। विटामिन सी और विटामिन डी विटामिन सी हमारी हड्डियों, दांतों, नाखूनो और स्किन को हेल्ती और मजबूत रखने के लिए जरूरी है।

विटामिन डी कैल्शियम को हड्डियों, दांत, नाखून आदि के अंदर पहुंचाने में मदद करता है और हार्ट को भी हेल्ती रखता है। विटामिन सी का सबसे आसान सोर्स है नींबू और आंवला।

आंवले में विटामिन सी के साथ कैल्शियम भी अच्छी मात्रा में होता है। विटामिन डी का सबसे अच्छा सोर्सेज सन लाइट।

यानी सूरज की रौशनी। जब धूप हमारी स्किन पर लगती है तो हमारी स्किन के अंदर ही विटामिन डी बनता है। जब लोग थोड़े बुड्ढे होने लगते हैं तो वो घर में ज्यादा रहने लगते हैं, धूप में निकलना पसंद नहीं करते हैं।

इस कारण उनके शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है। और उनकी हड्डियाँ कमजोर हो जाती हैं। थोड़ी सी चोट लगने से हड्डियाँ टूटने लगती हैं इसलिए बच्चों से बुड्ढे तक यदि डेली आधा घंटा धूप में रहें तो उनकी हड्डियों मजबूत रहेंगी। इसके अलावा फैटी फिश, एग योग?

Leave a Comment